आईने को भी ताक़ीद थी,
उनका अक्स ना दिखाने की।
दुनिया को अच्छी लगे
वही कहानी बताने की ।

हिल रहा था शाही तख्त
आ रहा था इंसाफ़ का शोर ।
फिर तख्त ने फेर लिया
अपना जुमला सरहद की ओर ।

अब हालत जानते हो तुम
बेरोजगार नौजवानो की
वतन के ख़ातिर सरहद पर
मरने वाले जवानो की ।

एक दिन के लिए रोता है
वो राजनीती का दरबार ।
फिर दरदर ठोकर खाता
वो शहिद का परिवार ।

किसानों की तुम बात ना
करो तो ही अच्छा है ।
जीने पर लगाते हो पाबंदी
क्या मरना ही उनका सच्चा है ?

नोच लिया सब कुछ गिध्दोंने
जो शाही दरबार के मोर है ।
एक वक्त का पेट पालने
चुराई रोटी तो साला चोर है ।

मिट्टी की सौगंध खाई है
मिट्टी में मिला देंगे सब ।
फ़ैलाया है जहर हवाओं में
सोचो कौन बच पायेगा अब ।

Please join our telegram group for more such stories and updates.telegram channel

Books related to सफ़र


मंगलसूत्र
प्रेम रस मेंहदी का
कविता संग्रह
अपहरण गणगौर
मानसरोवर
छेड़ादेव लांगुरिया
कविता संग्रह
दिव्यात्माओं का एक मेला
मां.
दिल ए सौदाई
संभालिए दिल को