अलौकिक अचंभित
अनुभव बुद्ध पूर्णिमा
संझा चंद्रदर्शन संग
आत्मिक मनः मस्तिष्क
शारीरीक संतोष शीतल ।

नयनाभिराम उज्जवल
मुग्ध मोहित सम्मोहित
हुआ प्रकृति के छांव में
बुद्ध के अप्रतिम अद्वितीय
संदेश अप दीपो भव ।

स्वयं दीप बनो
बुद्ध संग , बुद्ध में
लीन , मग्न , निमग्न
बुद्ध की महान
मधुर छवि अनुभूति ।

बुद्ध पूर्णिमा की
हार्दिक शुभेच्छाएँ

- हितेंद्र कुमार श्रीवास
सहायक शिक्षक
बालक आश्रम करियाकाटा
कोंडागाव छत्तीसगढ़ (494226)
9131220469
hitendrashrivas123@gmail.com

Please join our telegram group for more such stories and updates.telegram channel

Books related to हिंदी कविता