नंदीया अउ नरूवा
बईला अउ गाड़ी
नांगर अउ तुतारी
बटकी अउ बासी।

फरा संग सोंहारी
बरा संग बिजौरी
लाड़ू संग खुरहोरी
तुमा संग अमारी।

दीया संग बाती
मोटीयारी संग चिन्हारी
किसम-किसम बात-बानी
ददरीया आनी-बानी।

कतका ला बतावय नानी
चोरो-बोरो बईला-घानी
चारों कोती खपरा-छानी
रजधानी में नाका तेलघानी।।

- हितेंद्र कोंडागंया
सहायक शिक्षक
बालक आश्रम करियाकाटा
+919131220469

Please join our telegram group for more such stories and updates.telegram channel

Books related to हिंदी कविता