भात संग पताल चटनी
अऊ सरसोंभाजी साग
छत्तीसगढ़ के महमहाथे
अंगाकर रोटी , मुठीया
पपची , बैचांदी के पाग ।

चीला , फरा कस गुरतुर
गुरतुर दाई बबा के मया
आलूकांदा , सकरकांदा
कोचई सुकसी के झोर
मुनगाभाजी गदबदगदबद ।

डुबकी कढ़ी के सवाद
कहां पाबे रे भईया
अईसन मीठ गोठ-बात
छत्तीसगढ़ी गोठीयाले
मोर संगवारी तैं ह आज ।

- हितेंद्र कोंडागंया
9131220469
सहायक शिक्षक
बालक आश्रम करियाकांटा
कोंडागांव, छत्तीसगढ़
पिनकोड : - 494226

Please join our telegram group for more such stories and updates.telegram channel

Books related to हिंदी कविता