भात संग पताल चटनी
अऊ सरसोंभाजी साग
छत्तीसगढ़ के महमहाथे
अंगाकर रोटी , मुठीया
पपची , बैचांदी के पाग ।

चीला , फरा कस गुरतुर
गुरतुर दाई बबा के मया
आलूकांदा , सकरकांदा
कोचई सुकसी के झोर
मुनगाभाजी गदबदगदबद ।

डुबकी कढ़ी के सवाद
कहां पाबे रे भईया
अईसन मीठ गोठ-बात
छत्तीसगढ़ी गोठीयाले
मोर संगवारी तैं ह आज ।

- हितेंद्र कोंडागंया
9131220469
सहायक शिक्षक
बालक आश्रम करियाकांटा
कोंडागांव, छत्तीसगढ़
पिनकोड : - 494226

Please join our telegram group for more such stories and updates.telegram channel

Books related to हिंदी कविता


कविता संग्रह
हिंदी कविता
श्याम सुन्दर तिवारी जी की कविताएं
वक़्त ने किया क्या हसीन सितम