मुझ को दयार-ए-ग़ैर में मारा वतन से दूर
रख ली मिरे ख़ुदा ने मिरी बेकसी की शर्म

वह हल्क़ा-हा-ए-ज़ुल्फ़ कमीं में हैं या ख़ुदा
रख लीजो मेरे दावा-ए-वारस्तगी की शर्म

Please join our telegram group for more such stories and updates.telegram channel

Books related to मिर्ज़ा ग़ालिब की रचनाएँ


मिर्ज़ा ग़ालिब की रचनाएँ
दीवान ए ग़ालिब