हासिल से हाथ धो बैठ ऐ आरज़ू-ख़िरामी
दिल जोश-ए-गिर्या में है डूबी हुई असामी

उस शम्अ की तरह से जिस को कोई बुझा दे
मैं भी जले-हुओं में हूँ दाग़-ए-ना-तमामी

Please join our telegram group for more such stories and updates.telegram channel

Books related to मिर्ज़ा ग़ालिब की रचनाएँ


मिर्ज़ा ग़ालिब की रचनाएँ
दीवान ए ग़ालिब