उक़ाबी[1]शान से झपटे थे जो बे-बालो-पर[2]निकले
सितारे शाम को ख़ूने-फ़लक़[3]में डूबकर निकले

हुए मदफ़ूने-दरिया[4]ज़ेरे-दरिया[5]तैरने वाले
तमाँचे[6]मौज [7]के खाते थे जो बनकर गुहर [8]निकले

ग़ुबारे-रहगुज़र[9]हैं कीमिया[10]पर नाज़ [11]था जिनको
जबीनें[12]ख़ाक पर रखते थे जो अक्सीरगर निकले

हमारा नर्म-रौ [13]क़ासिद[14]पयामे-ज़िन्दगी[15]लाया
ख़बर देतीं थीं जिनको बिजलियाँ वोह बेख़बर निकले

जहाँ में अहले-ईमाँ[16]सूरते-ख़ुर्शीद[17]जीते हैं
इधर डूबे उधर निकले , उधर डूबे इधर निकले

Please join our telegram group for more such stories and updates.telegram channel

Books related to मोहम्मद इक़बाल की शायरी


बहादुर शाह ज़फ़र की शायरी
दाग़ देहलवी की शायरी
अकबर इलाहाबादी की शायरी
जिगर मुरादाबादी की शायरी
मीर तक़ी
मोहम्मद इक़बाल की शायरी