फिर चराग़े-लाला से रौशन हुए कोहो-दमन[1]
मुझको फिर नग़्मों पे उकसाने लगा मुर्ग़े-चमन[2]

फूल हैं सहरा[3] में या परियाँ क़तार अन्दर क़तार[4]
ऊदे-ऊदे, नीले-नीले पीले-पीले पैरहन[5]

बर्गे-गुल[6] पर रख गई शबनम का मोती बादे-सुब्ह[7]
और चमकाती है उस मोती को सूरज की किरन

हुस्ने-बेपरवा को अपनी बेनक़ाबी के लिए
हों अगर शहरों से बन[8] प्यारे तो शहर अच्छे कि बन

अपने मन में डूबकर पा जा सुराग़े -ज़िन्दगी[9]
तू अगर मेरा नहीं बनता न बन अपना तो बन

मन की दुनिया, मन की दुनिया सूदो-मस्ती,जज़्बे-शौक़
तन की दुनिया तन की दुनिया सूदो-सौदा,मक्रो-फ़न[10]

पानी-पानी कर गई मुझको क़लन्दर की ये बात
तू झुका जब ग़ैर के आगे न मन तेरा न तन

Please join our telegram group for more such stories and updates.telegram channel

Books related to मोहम्मद इक़बाल की शायरी


बहादुर शाह ज़फ़र की शायरी
दाग़ देहलवी की शायरी
अकबर इलाहाबादी की शायरी
जिगर मुरादाबादी की शायरी
मीर तक़ी
मोहम्मद इक़बाल की शायरी