क्योंकर उस बुत से रखूँ जान अज़ीज़
क्या नहीं है मुझे ईमान अज़ीज़

Please join our telegram group for more such stories and updates.telegram channel

Books related to दीवान ए ग़ालिब


मिर्ज़ा ग़ालिब की रचनाएँ
दीवान ए ग़ालिब