दिल ही तो है न संग-ओ-ख़िश्त[1] दर्द से भर न आये क्यों
रोएंगे हम हज़ार बार कोई हमें सताये क्यों

दैर[2] नहीं, हरम[3] नहीं, दर नहीं, आस्तां[4] नहीं
बैठे हैं रहगुज़र पे हम, ग़ैर हमें उठाये क्यों

जब वो जमाल-ए-दिलफ़रोज़[5], सूरते-मेह्रे-नीमरोज़ [6]
आप ही हो नज़ारा-सोज़, पर्दे में मुँह छिपाये क्यों

दश्ना-ए-ग़म्ज़ा[7] जांसितां[8], नावक-ए-नाज़[9] बे-पनाह
तेरा ही अक्स-ए-रुख़[10] सही, सामने तेरे आये क्यों

क़ैदे-हयातो[11]-बन्दे-ग़म[12] अस्ल में दोनों एक हैं
मौत से पहले आदमी ग़म से निजात पाये क्यों

हुस्न और उसपे हुस्न-ज़न[13] रह गई बुल्हवस[14] की शर्म
अपने पे एतमाद है ग़ैर को आज़माये क्यों

वां वो ग़ुरूर-ए-इज़्ज़-ओ-नाज़[15] यां ये हिजाब-ए-पास-वज़अ़[16]
राह में हम मिलें कहाँ, बज़्म में वो बुलायें क्यों

हाँ वो नहीं ख़ुदापरस्त, जाओ वो बेवफ़ा सही
जिसको हो दीन-ओं-दिल अज़ीज़, उसकी गली में जाये क्यों

"ग़ालिब"-ए-ख़स्ता[17] के बग़ैर कौन-से काम बन्द हैं
रोइए ज़ार-ज़ार क्या, कीजिए हाय-हाय क्यों

शब्दार्थ:
  1. पत्थर और ईंट
  2. मंदिर
  3. काबा
  4. चौखट
  5. मनोहर सौंदर्य
  6. दोपहर के सूरज के समान
  7. विलास की कटारी
  8. जानलेवा
  9. नख़रे का तीर
  10. चेहरे का प्रतिबिम्ब
  11. जीवन का बंधन
  12. दुःख का बंधन
  13. अच्छी भावनाएं
  14. तीव्र लालसा रखने वाला
  15. सम्मान और रूप का अंहकार
  16. स्वाभिमान के स्वभाव की लज्जा
  17. बुरी हालत वाला
Please join our telegram group for more such stories and updates.telegram channel

Books related to दीवान ए ग़ालिब


मिर्ज़ा ग़ालिब की रचनाएँ
दीवान ए ग़ालिब