ग़म खाने में बोदा[1] दिले-नाकाम बहुत है
यह रंज कि कम है मए-गुलफ़ाम बहुत है

कहते हुए साक़ी से हया आती है वरना
है यूं कि मुझे दुरद-ए-तह-ए-जाम[2] बहुत है

न तीर कमां में है, न सैयाद कमीं[3] में
गोशे[4] में क़फ़स[5] के मुझे आराम बहुत है

क्या ज़ुहद[6] को मानूं कि न हो गरचे रियाई
पादाश-ए-अ़मल[7] की तमअ़-ए-ख़ाम[8] बहुत है

हैं अहल-ए-ख़िरद[9] कि किस रविश-ए-ख़ास[10] पे नाज़ां
पा-बस्तगी-ए-रस्म-ओ-रह-ए `आम[11] बहुत है

ज़मज़म ही पे छोड़ो, मुझे क्या तौफ़-ए-हरम[12] से
आलूदा-ब-मै जामा-ए-अहराम[13] बहुत है

है क़हर गर अब भी न बने बात कि उन को
इनकार नहीं, और मुझे इब्राम[14] बहुत है

ख़ूं हो के जिगर आंख से टपका नहीं, ऐ मरग[15]
रहने दे मुझे यां, कि अभी काम बहुत है

होगा कोई ऐसा भी कि 'ग़ालिब' को न जाने
शायर तो वह अच्छा है पर बदनाम बहुत है

शब्दार्थ:
  1. कमज़ोर
  2. प्याले की तह में बची हुई तलछट
  3. घात
  4. कोना
  5. पिंजरा
  6. धर्म
  7. कर्म का फल
  8. अध-पका लालच
  9. बुद्धिमान
  10. विशेष आचरण
  11. साधारण रीति-रिवाज़ का पाबंदी
  12. काबे की परिक्रमा
  13. शराब से भीगा हुआ हज़ का पवित्र वस्त्र
  14. ज़ल्दी
  15. मौत
Please join our telegram group for more such stories and updates.telegram channel

Books related to दीवान ए ग़ालिब


मिर्ज़ा ग़ालिब की रचनाएँ
दीवान ए ग़ालिब