मत मरदुमक-ए दीदह में समझो यह निगाहें
हैं जम'अ सुवैदा-ए दिल-ए चशम में आहें

किस दिल पह है अज़म-ए सफ़-ए मिज़हगान-ए ख़वुद-आरा
आईने के पा-याब से उतरी हैं सिपाहें

दैर-ओ-हरम आईनह-ए तकरार-ए तमनना
वा-मांदगी-ए शौक़ तराशे है पनाहें

Please join our telegram group for more such stories and updates.telegram channel

Books related to दीवान ए ग़ालिब


मिर्ज़ा ग़ालिब की रचनाएँ
दीवान ए ग़ालिब